अल्मोड़ा जनपद से प्रकाशित होने वाले समाचार पत्र व पत्रिकाएँ

अल्मोड़ा अखबार अल्मोड़ा अखबार का संपादन वर्ष 1871 में बुद्धि बल्लभ पंत (Buddhi Ballabh Pant) द्वारा शुरू किया गया था। यह देश का 10th पंजीकृत समाचार पत्र था। इसे उत्तराखंड में पत्रकारिता की पहली ईंट…

पिथौरागढ़ जिले से प्रकाशित होने वाले समाचार पत्र व पत्रिकाएँ

एक पथिक (Ek Pathik) इसे वर्ष 1954 -55 में हीरा बल्लभ जोशी (Heera Ballabh Joshi) द्वारा शुरू किया गया था। उत्तराखंड ज्योति (Uttarakhand Jyoti) इसे वर्ष 1961 में हीरा बल्लभ जोशी (Heera Ballabh Joshi) द्वारा…

पिथौरागढ़ जनपद के प्रमुख व्यक्ति

कबूतरी देवी (लोक गायिका) कबूतरी देवी का जन्म वर्ष 1945 में पिथौरागढ़ के लेटी गांव में हुआ था, और इनका निधन 7 जुलाई, 2018 को हुआ। यह उत्तराखंड की एक प्रसिद्ध लोक गायिका थी। जिन्हें…

पिथौरागढ़ जिले के प्रमुख मेले

मोस्टामानू/मोष्टामानु मेला यह एक ऐतिहासिक मेला है, जिसे उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में प्रतिवर्ष मनाया जाता है। मोस्टामानू (मोस्टामाणू) को बारिश के देवता के रूप में भी जाना जाता है। भगवान मोस्टामानू को इन्द्र भगवान…

उत्तराखंड विधानसभा सीटों का विवरण

उत्तराखंड में विधानसभा सीटों की कुल संख्या 70 है, जिनमें से 15 सीटों को अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) व अनुसूचित जनजाति (Scheduled Tribes) के लिए आरक्षित किया गया है। अनुसूचित जाति (S.C) के लिए आरक्षित…

उत्तराखंड नाट्य कला (Uttarakhand Drama’s)

गढ़वाली व कुमाऊंनी भाषा में सिनेमा के इतिहास की शुरुआत वर्ष 1983 में हुई।  फिल्म जग्वाल (गढ़वाली में) से शुरू होता है। 1983 से वर्तमान तक गढ़वाली व कुमाऊंनी भाषा में सैकड़ों फिल्मों का निर्माण…

उत्तराखंड के प्रमुख सांस्कृतिक संस्थान

साहित्य, संस्कृति एवं कला परिषद – राज्य सरकार द्वारा उत्तराखंड की संस्कृति के विकास, संरक्षण एवं प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए वर्ष  2004 में इस परिषद का गठन देहरादून (Dehradun) में किया गया। इस परिषद में ख्याति प्राप्त…

उत्तराखंड के प्रमुख पारंपरिक परिधान व आभूषण

उत्तराखंड के पारंपरिक परिधानों एवं उत्तराखंड की लोक संस्कृति को मुख्यत: दो भागों में वर्गीकृत किया जा सकता है − कुमाऊंनी (Kumauni) गढ़वाली (Garhwali) उत्तराखंड के प्रमुख पारंपरिक परिधान (Major Traditional Apparel of Uttarakhand) गढ़वाली…

उत्तराखंड राज्य की 110 तहसीलें

उत्तराखंड के 13 जनपदों को 110  तहसीलों में विभाजित किया गया है। जिसमें पिथौरागढ़ जनपद में सर्वाधिक 13 तहसीलें तथा सबसे कम 4-4 तहसीलें रुद्रप्रयाग व हरिद्वार में हैं। उत्तराखंड में की तहसीलों के अतिरिक्त 18 उप तहसीलें तथा 95…

उत्तराखंड का इतिहास – प्रागैतिहासिक काल

उत्तराखंड (Uttarakhand) राज्य में विभिन्न स्थानों से प्राप्त हुए पाषाणकालीन उपकरण, गुफा, शैल-चित्र, कंकाल, और  धातुओं के उपकरणों से प्रागैतिहासिक काल में मानव निवास की पुष्टि हुई हैं| इस काल के साक्ष्य निम्न स्थलों से प्राप्त हुए…