उत्तराखंड – पंवार वंश से संबंधित प्रमुख तथ्य (Part 6)

11 mins read
  • टिहरी का घंटाघर कीर्तिशाह द्वारा महारानी विक्टोरिया की 1897 में हीरक जयंती की याद में स्थापित किया गया।
  • वर्ष 1920 पंडित हरिकृष्ण रतूड़ी द्वारा टिहरी में प्रथम कृषि बैक की स्थापना की गयी।
  • वर्ष 1942 में नरेन्द्र शाह द्वारा टिहरी में कन्या पाठशाला की स्थापना की गयी।
  • वर्ष 1897 में टिहरी में सर्वप्रथम बिजली व्यवस्था शुरू की गयी।
  • टिहरी रियासत के अंतिम राजा मानवेन्द्र शाह (26 मई 1921 – 5 जनवरी 2007) थे।
  • कीर्ति शाह के शासनकाल वर्ष 1902 में टिहरी में सरकारी प्रेस की स्थापना की गयी।
  • वर्ष 1897 में टिहरी में काष्ठ कला का विद्यालय की स्थापना की गयी।
  • वर्ष 1923 टिहरी में प्रथम लाइब्रेरी की स्थापना की गयी।
  • पंवार वंश के शासक प्रताप शाह के समय टिहरी में कंडक पुल का निर्माण किया गया।
  • रेस्टोरेशन डे (Restoration Day) के रूप में  टिहरी राजधानी स्थापना दिवस मनाया जाता है।
  • टिहरी का सर्वप्रथम उल्लेख स्कंद पुराण में मिलता है।
  • गोरखाओं द्वारा गढ़वाल पर वर्ष 1791 में तथा वर्ष 1803 में आक्रमण किया गया। वर्ष 1803 में गोरखाओं और प्रद्युम्न शाह के मध्य खुड़बुडा के मैदान (देहरादून) में युद्ध हुआ, जिसमे प्रद्युम्न शाह लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए।
  • गोरखाओं ने कुमाऊँ और गढ़वाल पर क्रमश: 25 वर्ष तथा 12 वर्ष तक शासन किया।
  • पंवार वंश के शासक सुदर्शनशाह द्वारा अंग्रेज व्यापारी विल्सन लकड़ी का ठेका भारतीय 4000 रु० में दिया गया। वर्ष 1859 में सुदर्शन शाह की मृत्यु हो गयी।
  • पंवार वंश के शासक भवानी शाह द्वारा टिहरी में कागज का कारोबार स्थापित किया गया।
  • पंवार वंश के शासक प्रताप शाह द्वारा भिलंगना नदी के तट पर अपना राज्य अभिषेक किया गया।
  • पंवार वंश के शासक प्रताप शाह द्वारा टिहरी रियासत का प्रथम कॉलेज वर्ष 1969 में स्थापित किया गया।
  • टिहरी को धुनारो की बस्ती के नाम से भी जाना जाता था।
  • वर्ष 1897 में टिहरी को नगरपालिका का दर्जा प्रदान किया गया था।
  • 1978 ई. टिहरी बाँध विरोध समिति निर्मित हुई तथा इसका अध्यक्ष वीरेन्द्र दत्त सकलानी को बनाया गया।
  • वर्ष 1972 में टिहरी बांध निर्माण की घोषणा की गयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest from Blog