संवेग संरक्षण का नियम (Law of Conservation of Momentum)

6 mins read

न्यूटन के तीसरे नियम द्वारा विज्ञान का एक ओर महत्वपूर्ण नियम ज्ञात होता है जिसे संवेग संरक्षण का नियम (Law of Conservation of Momentum) कहते हैं। संवेग संरक्षण के नियम को  गति के दूसरे नियम से निगमन कर सकते हैं।

यदि एक या एक से अधिक वस्तुएं द्वारा एक दूसरे पर पारस्परिक बल लगाया जा रहा  तो इस क्रिया के पूर्व व पश्चात् उनका कुल संवेग संरक्षित रहता है, जब तक कि उन पर कोई बाह्य बल ना लगाया जाए।

p = mv

p =  संवेग (Momentum)
m = द्रव्यमान (mass)
v =  वेग (velocity)

किसी भी वस्तु के द्रव्यमान (mass) और वेग (velocity) के गुणनफल को ही संवेग (momentum) कहा जाता है।

उदाहरण

  • जब बंदूक से गोली चलाई जाती है, तो वह अत्यधिक वेग से आगे की ओर बढ़ती है, जिससे गोली में आगे की दिशा में संवेग उत्पन्न हो जाता है। गोली भी बंदूक को प्रतिक्रिया बल के कारण पीछे की ओर धकेलती है, जिससे उसमें पीछे की ओर संवेग उत्पन्न हो जाता है।
  • बंदूक चलाने वाले व्यक्ति के द्वारा बंदूक को अपने कंधे से दबाकर रखता है ताकि बंदूक व शरीर एक हो जाएं, ऐसा होने पर द्रव्यमान में वृद्धि हो जाती है व शरीर को जोर से झटका नहीं लगता है।

Note −  बंदूक का संवेग, गोली के संवेग के बराबर किंतु विपरीत दिशा में होता है।

4 Comments

  1. I was searching for a good topic to research and read, I got it this article on your blog, Thank you so much.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest from Blog

आर्य समाज (Arya Samaj)

आर्य समाज एक हिन्दू सुधारवादी था आन्दोलन है जिसकी स्थापना वर्ष 1875 में स्वामी दयानन्द सरस्वती ने की थी। स्वामी दयानन्द सरस्वती ने

error: Content is protected !!