हिमाचल प्रदेश के दर्रे तथा जोत (Passes In Himachal Pradesh)

12 mins read

दर्रे क्या होते है(What are the passes):

पहाडि़यों एवं पर्वतीय क्षेत्रों में आवागमन के लिए एक पहाडि़ से दुसरी पहाडि़ के मध्य मार्गो को दर्रा कहा जाता है। दर्रे का मतलब होता है दो पहाड़ों के बीच की जगह, जो नीचे की ओर दब गई हो, ये संरचना ज्यादातर पहाड़ों से नदी बहने की वजह से बनती है। लेकिन इसके कुछ ओर भी कारण है जैसे – भूकम्प, ज्वालामुखी, जमीन का खिसकना उल्का गिरना इत्यादि।

हिमाचल भी पहाडि़ प्रदेश है जिसमे कई सारे पर्वत तथा दर्रे है, ये दर्रे आवागमन के लिए महत्वपूर्ण होते है और अक्सर राज्य परीक्षाओ में पूछे लिए जाते है हम हिमाचल के दर्रो की सूची प्रस्तुत कर रहे है,कृपया कोई सुझाव हो तो हमें कमेंट करें।

क्रम दर्रे का नाम समुद्र तल से ऊंचाई (मीटर) स्थान
1. कालिछो दर्रा 4,729 लाहौल-भरमौर
2. दुग्गी जोत 5,060 लाहौल-भरमौर
3. कुगति दर्रा 4,961 लाहौल-भरमौर
4. छोबू दर्रा 5,440 भरमौर – लाहौल-स्पीति
5. तेम्पो ला 4,890 लाहौल-स्पीति
6. छबिया दर्रा 4,934 पांगीधार, लाहौल, भरमौर
7. बड़ा लछाला 4,890 पांगीधार, लाहौल, भरमौर
8. लालुजी जोत 5,440 लाहौल-स्पीति
9. आशा गली 5,030 लाहौल-स्पीति, कांगड़ा
10. शिपतिंग 4,980 लाहौल-भरमौर
11. गुलारी जोत 4,960 लाहौल
12. रांछा दर्रा 4,400 लाहौल-स्पीति
13. शिपकिला दर्रा 4,500 लाहौल-स्पीति
14. कुंजम दर्रा 4,520 लाहौल-स्पीति
15. खिदाला गलू 4,750 चम्बा
16. साच दर्रा 4,395 चम्बा – पांगी
17. दराटी दर्रा 4,720 चम्बा – पांगी
18. सोदन दर्रा 4,720 चम्बा – पांगी
19. पादरी दर्रा 3,050 चम्बा – जम्मू
20. रवौरी दर्रा 3,150 चम्बा – कांगड़ा
21. जालसू की जोत 3,450 चम्बा – कांगड़ा
22. निकाडा 4,750 कांगड़ा
23. माकोड़ी जोत 5,190 कांगड़ा
24. गैरू जोत 4,660 कांगड़ा
25. भीम घसूतडी जोत 5,440 कांगड़ा – चम्बा
26. शिंगूर दर्रा 4,310 कांगड़ा – भरमौर
27. इन्द्राहार दर्रा 4,320 कांगड़ा – भरमौर
28. तोरी जोत 4,360 कांगड़ा – चम्बा
29. तमशा दर्रा 4,572 कांगड़ा-बड़ा बंगाल
(धौलाधार श्रृंखला)
30. तेलंग दर्रा 4,600 कांगड़ा- चम्बा
31. वारू दर्रा 3,870 कांगड़ा – चम्बा
32. बालेणी जोत 3,730 कांगड़ा – चम्बा
33. मनाली दर्रा 4,880 मनाली-कांगड़ा
34. एनिमल दर्रा 4,880 कुल्लू
35. शी जोत 4,530 कुल्लू
36. रांगछी गलू 4,540 कुल्लू
37. रसौल जोत 3,230 कुल्लू
38. खेली गलू 3,440 कुल्लू
39. गढू जोत 3,730 कुल्लू
40. तैन्ती गलू 3,600 कुल्लू
41. चंद्रवेरनी गलू 3,600 कुल्लू
42. पीर पार्वती 5,319 कुल्लू-स्पीति
43. सारा उम्गा दर्रा 5,010 कुल्लू-स्पीति
44. तैतु की जोत 5,000 कुल्लू- कांगड़ा
45. कढीकुकड़ी 4,640 कुल्लू – कांगड़ा
46. सारी गलू 3,740 कुल्लू – कांगड़ा
47. भेरियांग दर्रा 4,140 कुल्लू – कांगड़ा
48. रोहतांग दर्रा 3,978 कुल्लू – लाहौल
49. दुल्ची दर्रा 2,788 कुल्लू – मण्डी
50. पजानन्द गलू 3,280 कुल्लू – मण्डी

 

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous Story

हिमाचल प्रदेश का भूगोल (Geography of Himachal Pradesh)

Next Story

सिरमौर जिला (Sirmaur District)

Latest from Blog

भारत का भौतिक विभाजन

भारत को भौगोलिक स्तिथि के पर आधार  निम्नलिखित वर्गों में विभाजित किया जा सकता है हिमालय पर्वत शृंखला…